बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध | Beti Bachao Beti Padhao Essay in hindi 2021

हेलो दोस्तों आज हम आपके लिए Beti Bachao Beti Padhao पर एक निबंध लेकर आए हैं यह निबंध कक्षा 3 से दसवीं तक की परीक्षाओं में पूछा जाता है। यदि आप या आपका कोई दोस्त क्लास 3 से क्लास दसवीं का छात्र है। तो यह पोस्ट उनके लिए बहुत ही उपयोगी है। इस पोस्ट में हमने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर एक अच्छा निबंध लिखा है। इस निबंध में हमने सभी महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध | Beti Bachao Beti Padhao Essay in hindi

प्रस्तावना

शिक्षित व खुशहाल बेटी हमारे देश व समाज का भविष्य होती है। जिस समाज में बेटियों का सम्मान नहीं है वहां समाज तरक्की नहीं कर सकता हमारी संस्कृति में प्राचीन काल से ही कन्या पूजन की प्रथा प्रचलित में रही है कन्या को देवी का स्वरूप माना गया है हमारे यहां कहा जाता है।

“यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता”

भारतीय संस्कृति में नारी को पुरुषों से ऊंचा स्थान दिया गया है। प्राचीन काल से ही हमारे यहां नारियों की उज्जवल परंपरा रही है। सीता ,सावित्री ,अरुंधति ,अनुसुइया ,द्रोपदी जैसी तेजस्विनी ,मैत्रायी ,गार्गी ,अपाला जैसी प्रकांड विदुषी और कुंती ,विदुला जैसी क्षात्र धर्म की ओर प्रेरित करने वाली एक से एक वीरांगनाओं के अद्वितीय शौर्य से भारतीय इतिहास भरा पड़ा है। मध्यकाल में भी महारानी अहिल्याबाई माता जीजाबाई ,राजमाता रुद्रमा ,दुर्गावती और महारानी लक्ष्मीबाई जैसी महान रानियों ने अपने पराक्रम की अविस्मरणीय छाप छोड़ी है।

इतना ही नहीं पद्मावती का जौहर ,मीरा की भक्ति और पन्ना के त्याग से भारतीय संस्कृति में नारी को ध्रुव तारे जैसा स्थान प्राप्त हो गया है।

इतने उच्च आदर्शों के पश्चात भी वर्तमान समय में बेटियों की घटती संख्या चिंता का विषय बनी हुई है उन पर होने वाले अत्याचार हमारे समाज के लिए कलंक है दहेज जैसी कुरीतियों का उन्हें सामना करना पड़ता है आज बेटियों के प्रति सोच को बदलने की आवश्यकता है हर बेटी का सम्मान करें हर बेटी को शिक्षित करें। आज बेटी ने अपनी योग्यता के आधार पर अपनी श्रेष्ठता का परिचय हर क्षेत्र में अंकित किया है।

सरकार ने भी संविधान द्वारा बेटी को शिक्षा प्राप्त करने नौकरी करने आदि के समान अधिकार और अवसर प्रदान किए हैं आज की बेटी चिकित्सा इंजीनियरिंग अध्यापन आदि क्षेत्रों में तो लगी ही है पुलिस एवं रक्षा विभागों में भी उच्च पदस्थ है। कल्पना चावला ,सुनीता विलियम्स ,किरण बेदी ,पीटी उषा अपने अपने क्षेत्र में उच्च स्थान प्राप्त कर चुकी हैं।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध | Beti Bachao Beti Padhao Essay in hindi
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध | Beti Bachao Beti Padhao Essay in hindi

बेटी यदि बहन है, तो प्यार का दर्पण है।
बेटी यदि पत्नी तो, खुद का समर्पण है ।
बेटी यदि भाभी है, तो भावना का भंडार है।
नानी, मौसी ,बुआ है, तो स्नेह का सत्कार है।
बेटी यदि काकी है, तो कर्तव्य की साधना है।
बेटी यदि साथी है, तो सुख की सतत संभावना है।
और बेटी यदि मां है तो साक्षात परमात्मा है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत-Beti Bachao Beti Padhao

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का अर्थ है। लड़कियों को पहचान और शिक्षित करना इस सरकारी सामाजिक योजना की शुरुआत हरियाणा के पानीपत में 22 जनवरी 2015 बुधवार को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा इस योजना की शुरुआत की गई ।

यह योजना कन्या भ्रूण हत्या को पूरी तरह समाप्त करने के साथ-साथ लड़कियों के जीवन को बचाने के लिए आम लोगों के बीच यह जागरूकता बढ़ाने का प्रयास करेगी।

हरियाणा में शुरुआत का मुख्य कारण

हरियाणा में ही शुभारंभ करने का कारण वहां लिंगानुपात में सर्वाधिक अंतर है यह योजना पूरे देश को समर्पित करते हुए प्रधानमंत्री जी ने पूरे देश को आव्हान किया और सभी देशवासियों को एकजुट होकर लड़कियों की कम जनसंख्या को संतुलित करने का संकल्प लिया।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का मुख्य उद्देश्य-

ऐसी योजना के तहत सबसे पहले संपूर्ण भारत में पूर्व गर्वाधान प्रसव पूर्व निदान तकनीक ( PCPNDT ) अधिनियम 1994 को लागू किया गया। कोई भी ऐसा करते पकड़ा गया तो उसके लिए कड़े दंड के प्रावधान हैं। साथ ही साथ यदि कोई चिकित्सक भ्रुण लिंग परीक्षण करते या भ्रूण हत्या का दोषी पाया गया तो उसका लाइसेंस रद्द कर कानूनी कार्यवाही के आदेश है।

लड़कियों को सामाजिक और आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाना है। जिससे वह अपने उचित अधिकार और उच्च शिक्षा का प्राप्त कर सकें।

लड़कियों के लिए मानव की नकारात्मक सोच को सकारात्मक बदलाव में परिवर्तित करने के लिए यह योजना मिल का पत्थर है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का मुख्य उद्देश्य समाज में पनपते लिंग असंतुलन को नियंत्रित करना है। यह अभियान हमारे घर की बहू बेटियों पर होने वाले अत्याचार के विरुद्ध एक संघर्ष है। प्रत्येक नागरिक को कन्या शिशु बचाव के साथ इनका सामाजिक स्तर सुधारने का प्रयास करना चाहिए।

देश में लगातार घटती कन्या शिशु दर को संतुलित करने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई। किसी भी देश के लिए मानवीय संसाधन के रूप में स्त्री और पुरुष दोनों एक समान रूप से महत्वपूर्ण होते हैं। केवल लड़का पाने की इच्छा ने देश में ऐसी स्थिति उत्पन्न कर दी है। कि इस तरह की योजना को चलाने की जरूरत आन पड़ी है। यह अत्यंत शर्मनाक है।

  • सामाजिक व्यवस्था में बेटियों के प्रति रूढ़िवादी मानसिकता में बदलाव लाना।
  • बालिकाओं की शिक्षा स्तर को आगे बढ़ाना।
  • लिंग आधारित भ्रूण हत्या की रोकथाम करना।
  • लड़कियों की शिक्षा और उनकी भागीदारी में व्यक्ति को सुनिश्चित करना।

विश्व पर्यावरण दिवस पर निबंध | World Environment Day Essay In Hindi 2021

लड़कियों के शोषण के पीछे मुख्य कारण क्या है

लड़कियों के शोषण के पीछे मुख्य कारण अशिक्षा है। अगर हम पढ़े लिखे शिक्षित होते हैं। तो हमें सही गलत का ज्ञान होता है। जब बेटियां अपने पैर पर खड़ी होंगी तो कोई भी उन्हें बोझ नहीं समझेगा इसलिए बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम के माध्यम से बेटी को अधिक से अधिक शिक्षित बनाने पर जोर दिया जा रहा है। शिक्षित लोगों के साथ कुछ भी गलत करना आसान नहीं होता है।

बाल विवाह पर नियंत्रण

प्रदेश सरकार मिशन शक्ति कार्यक्रम आयोजित कर बेटियों को संरक्षण प्रदान कर रही है बाल विवाह पर भी नियंत्रण करने के लिए भी प्रयास किए जा रहे हैं।

बालिकाओं का विवाह 18 वर्ष की उम्र अब करने से पहले करना एक अपराध है ऐसा करने पर छह माह की सजा या जुर्माना भी किया जा सकता है।

महिला सशक्तिकरण

यदि हमें अपने देश की बेटियों को सशक्त करना है तो इन अपराधों में जैसे बाल व्यवहार यौन उत्पीड़न बाल श्रम आदि पर अंकुश लगाना होगा आज सरकार ने महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए महिलाओं को हर क्षेत्र में आगे बढ़ने का अवसर प्रदान किया है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लिए आवेदन कैसे करें-Beti Bachao Beti Padhao yojana ke liye aavshyk dastavej

इस योजना में सरकार द्वारा कुछ आर्थिक धनराशि लड़कियों को उपलब्ध कराई जाती है।

यदि आपकी बेटी की फोटो 1 से 10 साल के बीच है तो सबसे पहले आपको अपने पास की बैंक में बेटी का एक खाता खुलवाना होगा।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज-

  • आपको अपनी बेटी का बैंक में खाता खुलवाने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।
  • बच्ची और अभिभावक का आधार प्रमाण पत्र होना आवश्यक है।

                  आतंकवाद पर निबंध – Aatankvaad Par Nibandh – Essay On Terrorism In Hindi         

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना में कितने रुपए मिलेंगे-

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना मैं यदि आप बेटी के बैंक खाते में हर महीने से एक हजार रुपए जमा करते हो तो 1 साल में आपको ₹12000 की धनराशि बेटी के बैंक खाते में जमा करनी होगी।

यह धनराशि 14 वर्षों तक अपनी बेटी के खाते में जमा करने होंगे। 14 वर्षों में आपके द्वारा जमा की गई राशि ₹168000 होती है।

आपकी बेटी 21 वर्ष की हो जाती है तो आपको 6,07128 रुपए की धनराशि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत मिलेगी।

और यदि आपकी बेटी 18 वर्ष की हो जाती है तो आप इस राशि का 50% हिस्सा निकाल सकते हैं। और शेष बची हुई राशि को बेटी के 21 वर्ष पूरे होने पर निकाल सकते हैं।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कविता

कलियों को खेल ने दो, मीठी खुशबू फैलाने दो,

बंद करो उनकी हत्या, और जीवन ज्योत जलाने दो,

कलियां  तोड़ी तुमने तो फूल कहां से लाओगे, बेटी की हत्या करके तुम बहु कहां से लाओगे।

 

मां धरती पर आने दो, उनको भी लहराने दो,

बंद करो उनकी हत्या, और जीवन ज्योत जलाने दो,

मां दुर्गा की पूजा करके भक्त बड़े कहलाते हो, कहां गई वह भक्ति जी बेटी को मार गिराते हो।

 

 

लक्ष्मी को जीवन पाने दो, घर आंगन जगमांगे ने दो,

बंद करो उनकी हत्या, अब जीवन ज्योति चलाने दो,

बंद करो उनकी हत्या, अब जीवन ज्योति लाते हैं।

भारत के बहुचर्चित बेटियां

  1. भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल जी
  2. भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी
  3. भारत की प्रथम महिला लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार
  4. भारत की प्रथम महिला राज्यसभा उपाध्यक्ष वायलेट अलवा
  5. भारत की प्रथम महिला सांसद राधाबाई सूबारायन
  6. भारत की प्रथम महिला राज्यपाल सरोजनी नायडू
  7. भारत की प्रथम महिला शासिका रजिया सुल्तान
  8. भारत की प्रथम महिला IAS अन्ना जॉर्ज
  9. भारत के प्रथम महिला आईपीएस अधिकारी किरण बेदी
  10. भारत की प्रथम महिला मुख्यमंत्री सुचेता कृपलानी
  11. भारत की प्रथम महिला केंद्रीय मंत्री राजकुमारी अमृत कौर
  12. भारत की प्रथम महिला कांग्रेस अध्यक्ष एनी बेसेंट
  13. राज्यसभा के लिए नामित होने वाली भारत की प्रथम महिला फिल्म अभिनेत्री नरगिस दत्त
  14. राज्यसभा की प्रथम महिला महासचिव वी.एस. रमादेवी
  15. ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाली भारत की प्रथम महिला मेरी लीला राव
  16. ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला पीवी सिंधु
  17. ओलंपिक बैडमिंटन की महिला एकल स्पर्धा में कांस्य पदक जीतने वाली प्रथम महिला साइना नेहवाल

उपसंहार

भारत के प्रत्येक नागरिक को कन्या शिशु बचाव के साथ-साथ इनका समाज को सुधारने के लिए प्रयास करना चाहिए। लड़कियों को उनके माता-पिता द्वारा लड़कों के समान समझा जाना चाहिए। और उन्हें सभी कार्य क्षेत्रों में समान अवसर प्रदान करने चाहिए। शिक्षित लोगों के साथ कुछ भी गलत करना आसान नहीं होता लड़की पढ़ी-लिखी हो गई, तो ना अपने साथ गलत होने देगी ना किसी और के साथ गलत होते देखेगी। इसलिए लड़की का शिक्षित होना अत्यंत आवश्यक है।

हमारे देश के लोगों ने मिलकर हमारे देश में पुरुष प्रधान नीति को अपना लिया है। जिसके कारण देश की बेटियों की हालत गंभीर रूप से खराब होती जा रही है। उनके साथ लैंगिक भेदभाव किया जा रहा है। और ना ही उन्हें उचित शिक्षा दी जा रही है। जिसके कारण वह हर क्षेत्र में पिछड़ गई है। उनकी आवाज को इस कदर दवा दिया गया है। कि लड़कियों को घर से बाहर निकलने की आजादी तक नहीं दी जाती है। इस गंभीर मुद्दे के कारण ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरुआत की गई थी।

FAQ

प्रश्न – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का शुभारंभ कब और कहाँ हुआ था ?

उत्तर – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का शुभारंभ 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत में हुआ था।

प्रश्न – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत संपूर्ण भारत में किस अधिनियम को लागू किया गया ?

उत्तर – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के तहत सबसे पहले संपूर्ण भारत में पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक (PCPNDT) अधिनियम 1994 को लागू किया गया था।

प्रश्न – यदि कोई चिकित्सक भ्रूण लिंग परीक्षण करते पाया जाता है तो क्या होगा ?

उत्तर – यदि कोई चिकित्सक भ्रूण लिंग परीक्षण करते या वह हत्या का दोषी पाया गया तो उसका लाइसेंस रद्द होंगा। साथ ही साथ भयंकर परिणाम भी भोगने पड़ेंगे।

प्रश्न – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का अर्थ क्या है ?

उत्तर – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का अर्थ है लड़कियों को बचाना और शिक्षित करना।

 

इस पोस्ट में हमने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के बारे में विस्तार से चर्चा की है।  यह पोस्ट आपको अच्छी लगी तो हमें एक कमेंट अवश्य करे। पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगो के पास शेयर करे।

Spread the love

3 thoughts on “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध | Beti Bachao Beti Padhao Essay in hindi 2021”

Leave a Comment