Coronavirus Essay In Hindi | कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी मे

दोस्तो इस पोस्ट में हम आपको Coronavirus Essay In Hindi | कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी मे लेकर आये हैं। जो 8, 9, 10, 11, 12 की परीक्षा में पूछा जा सकता है।Coronavirus essay in hindi | कोरोना वायरस निबंध

प्रस्तावना

कोरोना एक वायरस है जो संक्रमण के माध्यम से पूरी दुनिया में बहुत तेजी से फैलने वाली बीमारी बन चुका है।

इसका दूसरा नाम कोविड-19 है। जिसमे CO – कोरोना VI – वायरस D – बीमारियां 2019 है। इससे हर दिन लाखों की संख्या में लोग संक्रमित हो रहे हैं। इसका कारण यह है कि यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति मैं ट्रांसफर हो जाता है आज यह महामारी पूरी दुनिया में तेजी से फैल चुकी है जिसके कारण इस वायरस की वजह से लोगों की बहुत ज्यादा मात्रा में मृत्यु हो रही है।

कोरोना वायरस चीन के वुहान में दिसंबर 2019 के मध्य में शुरू हुआ था। विशेषज्ञों के मुताबिक यह वायरस चमगादड़ के अंदर पाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 11 मार्च वर्ष 2020 को इस बीमारी को व्यवस्थित महामारी का दर्जा प्रदान किया।

कोरोना वायरस मानव बाल की तुलना में 900 गुना छोटा है। कोविड 19 नाम की यह बीमारी 70 से ज्यादा देशों में फैल चुकी है। कोरोना के संक्रमण को देखते हुए सावधानी बरतने की जरूरत है। ताकि इसे फैलने से रोका जा सके।

सबसे पहले इस वायरस को SARS – COV -2 नाम दिया गया जिसके बाद कोविड-19 नाम से आधिकारिक नामकरण किया गया फिलहाल तो इस कोरोना वायरस को कंट्रोल करने के लिए भारतीय भारतीय बायो टेक्नोलॉजी रिसर्च सेंटर में कोवाक्सिन नामक वैक्सीन तैयार की जिससे उसका संक्रमण कम हो और व्यकि जल्दी से जल्दी अपनी इममुनीटी बड़ा सके

Coronavirus के लक्षण

  • बुखार आना
  • सर्दी और खांसी
  • गले में खराश का होना
  • शरीर में थकान
  • सांस लेने में दिक्कत
  • मांसपेशियों में जकड़न
  • लंबे समय तक थकान रहना
  • मुह का स्वाद चला जाना

कोरोनावायरस के गंभीर मामलों में निमोनिया सांस लेने में परेशानी का होना किडनी फेल होना और यहां तक की मौत भी हो सकती है कोरोनावायरस मनुष्य के शरीर में बिना कोई लक्षण दिखाएं 14 दिन तक जीवित रह सकता है।

Coronavirus कैसे फैलता है

कोरोनावायरस का आकार इतना छोटा है कि इसे नॉर्मल तरीके से देखना संभव नहीं है इसे देखने के लिए माइक्रोस्कोप का प्रयोग करना पड़ता है तब जाकर बहुत ही बारिक आकार में यह वायरस नजर आता है जब कोई संक्रमित व्यक्ति खाँसता या थूकता है। या फिर छीकता है तो उसके बारीक कण हवा में फैल जाते हैं। और हवा में फैली वायरस किसी अन्य व्यक्ति को संक्रमित कर देते हैं।

यदि कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने किसी चीज को छुआ है और उसके बाद यदि किसी दूसरे व्यक्ति ने उस चीज को छू लिया तो उसे भी कोरोना का संक्रमण आसानी से हो सकता है।

Coronavirus के संक्रमण से कैसे बचा जा सकता है

  • कोरोना से संक्रमित क्षेत्र में जाने से बचना चाहिए
  • अपने मुंह और नाक को अच्छी तरह से मास्क से ढके
  • समय-समय पर हाथों को सैनिटाइजर या साबुन से कम से कम 20 से 30 सेकेंड तक धोएं
  • 2 गज की दूरी सामाजिक दूरी बनाए रखें।
  • किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के बाद खुद को परिवार या समाज से अलग रखें।
  • खाँसते और छीकते समय मुँह और नाक को अच्छी तरह से ढके।
  • बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकले।
  • अपने चेहरे को छूने से बचें
  • घर से बाहर बिना मास्क के नहीं निकलना है तथा चेहरे को लगातार साफ करते रहना है।

Coronavirus समस्या पर भारत की पहल

21 मार्च सन 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत में लोक डाउन कर दिया गया तथा संपूर्ण देश में धारा 144 लागू कर दी गई सामाजिक व्यक्तिगत दूरी बनाए रखने के कारण ही मृत्यु दर में कमी आई तथा रिकवरी रेट भी सुरक्षा जनक रही।

भारत पर कोरोना वायरस का प्रभाव

कोरोना वायरस का प्रभाव विश्व भर में देखने को मिला है इसकी वजह से दुनिया के कई देशों में विकास दर धीमी हुई है और हमारे देश भारत के साथ साथ अमेरिका सहित दुनिया के अन्य देशों की आर्थिक विकास में मंदी देखने को मिली इसका प्रमुख कारण यह है कि यह वायरस बहुत तेजी से अपने संक्रमण की दर को बढ़ाता है जिसके कारण कई देशों में लॉकडाउन लगा दिया गया और देशों की विकास दर (GDP) में भारी गिरावट देखने को मिली है।

कोविड 19 वैश्विक महामारी

30 जनवरी 2020 को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस के प्रयास को अंतराष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया गया। तथा 11 मार्च 2020 को इसे वैश्विक महामारी घोषित कर दिया गया। महामारी उस बीमारी को कहा जाता है। जो एक ही समय मे दुनिया के अलग-अलग देशों के लोगो मे फैल रही हो।

Coronavirus शरीर को कैसे हानि पहुचाता है।

सबसे पहले यह वायरस आपकी कोशिका में प्रवेश करता है। उसके बाद यह आपकी सेल्स को मल्टीप्लाई करता है। उसके बाद यह वायरल प्रोटीन ACE2 रिसेप्टर की सहायता से जाकर फटता है। उसके बाद आपकी तंदुरुस्त कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। उसके बाद यहां म्यूकस के जरिए आपके पाचन तंत्र में जाकर 2 से 14 दिन के अंदर आपकी कोशिकाओं को कमांड करता है। और आप कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाते हो।

Coronavirus से सबसे ज्यादा खतरा किसे है।

इस वायरस से सबसे ज्यादा खतरा 60 साल से ऊपर वाले व्यक्ति को है। जिनकी हेल्थ कंडीशन जैसे cardiovascular diseases ( hart problem ) डायबिटीज ( मधुमेह) Chronic Restiratory और इसके जैसे कई अधिक खतरनाक रोग जिसे है उसे यह वायरस अपनी चपेट में ले लेता है।

 

वैक्सीन क्या है।

वैक्सीन आपके शरीर को किसी बीमारी वायरस या संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार करती है वैक्सीन में किसी जीव के कमजोर या निष्क्रिय अंग होते हैं जो बीमारी का कारण बनते हैं। यह शरीर के इम्यून सिस्टम यानी WBC को संक्रमण की पहचान करने के लिए प्रेरित करते हैं और उनके खिलाफ शरीर में एंटीबॉडी बनाते हैं।

जो शरीर को वायरस के हमले से लड़ने में हमारे शरीर की मदद करता है।

Coronavirus वैक्सीन के नाम

Co vaccine ,covid Shild ,moderna ,Pfizer ,Sputnik

को वैक्सीन V/s कोविशील्ड

को वैक्सीन के पहले और दूसरे डोज का अंतराल 4 से 6 सप्ताह होता है। और कोविशील्ड के पहले और दूसरे डोज का अंतराल 12 से 16 सप्ताह होता है।

को वेक्सीन दूसरे डोज के पश्चात 78-95% प्रभावित होती है जबकि कोविशील्ड दूसरे डोज के पश्चात 70-90% प्रभावी होता है।

ये दोनों वैक्सिंग चिंपांजी एडिनोवायरस / ChAdOx के जिन से बनाई गई है। इन दोनों वैक्सीन को 0.5ML कंधे के पास वाले पार्ट पर लगाया जाता।

इन दोनों वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री सेल्सियस तापमान में रखा जा सकता है।

Coronavirus की सक्रियता किस प्रकार की आयु में अधिक देखने को मिलती है

कोरोना वायरस की सक्रियता 80 + आयु वर्ग के लोगो मे अधिक देखने को मिलती है। इस बीमारी के संक्रमण का असर बच्चों पर बहुत कम देखने को मिला है।

निष्कर्ष

पूरी दुनिया के सभी देश इस महामारी की वजह से पीड़ित हैं इसलिए दुनिया की सभी सरकारें इस वायरस को रोकने के लिए बहुत सारी कोशिशें कर रही हैं लेकिन अभी तक कोई सही मार्ग नहीं मिल पाया है। हमें बस इतना करना चाहिए कि धैर्य रखें सामाजिक दूरी बनाए रखें सरकार द्वारा लगाए गए नियमों का सही ढंग से पालन करें और पूर्ण रूप से डॉक्टरों पर विश्वास रखें।

कोविड-19 नाम का यह वायरस अब पूरी दुनिया में फैल चुका है यह बहुत ही छोटा और प्रभावी वायरस है संकट की घड़ी में सभी देश एक दूसरे के साथ सामाजिक तथा सहयोग की भावना से एक दूसरे का साथ दे रहे हैं भारत की जनता भी सरकार का सहयोग करने तथा सभी नियमों का पालन करने के लिए प्रयासरत है।

Spread the love

3 thoughts on “Coronavirus Essay In Hindi | कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी मे”

Leave a Comment